End of the Atal Era: Atal Bihari Vajpayee is no more!

662
atal bihari bajpayee

The country is mourning over the death of India’s most respected Prime Minister- Atal Bihari Vajpayee! 16th August 2019 at 5:05 pm, just after the day of independence our legendary politician amidst farewell to the world. His recognition and contribution to India will always be written in golden words. It’s time to recall his deeds and tribute him while saying goodbye- He will always be missed!

His Last few days:

Atal Bihari Vajpayee, the tallest political leader in India wasn’t keeping well since last few years. Although his medicinal checkups where al in sync, he was in a critical situation for last few days. On 11th July he was admitted to the hospital with the critical case of urinary tract infection and chest congestion, on 16th August 2018, the leader left the world at the age of 93.

You will always be remembered

  • It’s time to throw light on his journey and his contributions to the country that made his the most respected leader of the era.
  • He served the country thrice as the Prime minister of India. While in his presence and rule things seemed working fine and people respected politics.
  • Atal Bihari Vajpayee was not only the most admired leader in his party BKP but was also considered for the high standard of leadership quality by all the other parties
  • His contribution in introducing economic reforms took India to an altogether new level and it’s only under his tenure that India maintained a good GDP rate
  • Major Natural disasters happened during his rule including earthquakes, oil spill, cyclone etc., but out of sheer dedication in raising India was the result of a maintained economy even after so many mishappenings
  • He was the first prime minister to worked in making global ties stronger. It’s only after his work when Clinton came to India, working upon improving bilateral ties
  • He passed the Chandran- project and the result of which is hidden from no one.
  • Testing 5 nuclear weaken in a week- no other than Vajpayee could initiate that!
  • Pradhan Mantri Gramin Sadak Yojana, which resulted in connecting distant villages throughout the country was a seed of his idea
  • The golden quadrilateral project- it connected the major metropolitical cities- this project benefited the major crowd and we just can’t thank him enough
  • In his rule, alimentary education became free for the children of age 6-14
  • Telecom dispute, Bharat Sanchar Nigam operating separately, new policies for telecom industry- he did that all, and many more…

Ranging from education, infrastructure, Global ties or telecom industry– he has left his footprint amongst all… Can we ever say goodbye to such a leader?

Atal Bihari Vajpayee as a Poet:

hd-atal-bihari-vajpayee-poet

हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै शंकर का वह क्रोधानल कर सकता जगती क्षार क्षार
डमरू की वह प्रलयध्वनि हूं जिसमे नचता भीषण संहार
रणचंडी की अतृप्त प्यास मै दुर्गा का उन्मत्त हास
मै यम की प्रलयंकर पुकार जलते मरघट का धुँवाधार
फिर अंतरतम की ज्वाला से जगती मे आग लगा दूं मै
यदि धधक उठे जल थल अंबर जड चेतन तो कैसा विस्मय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै आज पुरुष निर्भयता का वरदान लिये आया भूपर
पय पीकर सब मरते आए मै अमर हुवा लो विष पीकर
अधरोंकी प्यास बुझाई है मैने पीकर वह आग प्रखर
हो जाती दुनिया भस्मसात जिसको पल भर मे ही छूकर
भय से व्याकुल फिर दुनिया ने प्रारंभ किया मेरा पूजन
मै नर नारायण नीलकण्ठ बन गया न इसमे कुछ संशय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै अखिल विश्व का गुरु महान देता विद्या का अमर दान
मैने दिखलाया मुक्तिमार्ग मैने सिखलाया ब्रह्म ज्ञान
मेरे वेदों का ज्ञान अमर मेरे वेदों की ज्योति प्रखर
मानव के मन का अंधकार क्या कभी सामने सकठका सेहर
मेरा स्वर्णभ मे गेहर गेहेर सागर के जल मे चेहेर चेहेर
इस कोने से उस कोने तक कर सकता जगती सौरभ मै
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै तेजःपुन्ज तम लीन जगत मे फैलाया मैने प्रकाश
जगती का रच करके विनाश कब चाहा है निज का विकास
शरणागत की रक्षा की है मैने अपना जीवन देकर
विश्वास नही यदि आता तो साक्षी है इतिहास अमर
यदि आज देहलि के खण्डहर सदियोंकी निद्रा से जगकर
गुंजार उठे उनके स्वर से हिन्दु की जय तो क्या विस्मय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

दुनिया के वीराने पथ पर जब जब नर ने खाई ठोकर
दो आँसू शेष बचा पाया जब जब मानव सब कुछ खोकर
मै आया तभि द्रवित होकर मै आया ज्ञान दीप लेकर
भूला भटका मानव पथ पर चल निकला सोते से जगकर
पथ के आवर्तोंसे थककर जो बैठ गया आधे पथ पर
उस नर को राह दिखाना ही मेरा सदैव का दृढनिश्चय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मैने छाती का लहु पिला पाले विदेश के सुजित लाल
मुझको मानव मे भेद नही मेरा अन्तःस्थल वर विशाल
जग से ठुकराए लोगोंको लो मेरे घर का खुला द्वार
अपना सब कुछ हूं लुटा चुका पर अक्षय है धनागार
मेरा हीरा पाकर ज्योतित परकीयोंका वह राज मुकुट
यदि इन चरणों पर झुक जाए कल वह किरिट तो क्या विस्मय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै वीरपुत्र मेरि जननी के जगती मे जौहर अपार
अकबर के पुत्रोंसे पूछो क्या याद उन्हे मीना बझार
क्या याद उन्हे चित्तोड दुर्ग मे जलनेवाली आग प्रखर
जब हाय सहस्त्रो माताए तिल तिल कर जल कर हो गई अमर
वह बुझनेवाली आग नही रग रग मे उसे समाए हूं
यदि कभि अचानक फूट पडे विप्लव लेकर तो क्या विस्मय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

होकर स्वतन्त्र मैने कब चाहा है कर लूं सब को गुलाम
मैने तो सदा सिखाया है करना अपने मन को गुलाम
गोपाल राम के नामोंपर कब मैने अत्याचार किया
कब दुनिया को हिन्दु करने घर घर मे नरसंहार किया
कोई बतलाए काबुल मे जाकर कितनी मस्जिद तोडी
भूभाग नही शत शत मानव के हृदय जीतने का निश्चय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै एक बिन्दु परिपूर्ण सिन्धु है यह मेरा हिन्दु समाज
मेरा इसका संबन्ध अमर मै व्यक्ति और यह है समाज
इससे मैने पाया तन मन इससे मैने पाया जीवन
मेरा तो बस कर्तव्य यही कर दू सब कुछ इसके अर्पण
मै तो समाज की थाति हूं मै तो समाज का हूं सेवक
मै तो समष्टि के लिए व्यष्टि का कर सकता बलिदान अभय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

You were and will always be a leader sir!

You might say goodbye to the world, but the world will never forget you!
In your honor – “Jai Hind” “Jai Bharat”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here